Design a site like this with WordPress.com
Get started

Legal points

Hi,I started, I am going to bring such a topic on my blog site as soon as possible which will be called legal point.

In this legal point, you have some information about the law for people living in India and outside India and how this law affects you, which you will find here.


Legal point

The law is there to protect you

Indian law is based on British law. The British implemented it for the first time during their reign. Many acts and ordinances implemented by the British are still in effect today.

भारतीय कानून, ब्रितानी कानून पर आधारित है। अंग्रेज़ो ने इसे पहली बार अपने शासनकाल के दौरान लागू किया। अंग्रेज़ो द्वारा लागू किये कई अधिनियम (acts) और अध्यादेश (ordinances) आज भी प्रभावशील हैं।


Legal point

भारत का संविधान, भारत का सर्वोच्च विधान है जो संविधान सभा द्वारा 26 नवम्बर 1949 को पारित हुआ तथा 26 जनवरी 1950 से प्रभावी हुआ। यह दिन (26 नवम्बर) भारत के संविधान दिवस के रूप में घोषित किया गया है |जबकि 26 जनवरी का दिन भारत में गणतन्त्र दिवस के रूप में मनाया जाता है

Indian Civil Law is a complex law in which each particular religion has its own laws. Registration is not required for marriage and divorce in most states. Hindu, Muslim, Christian, Sikh and other religions have their own laws. The only exception to this is the state of Goa, where the Portuguese Uniform Civil Code is in effect and all religions have uniform laws regarding marriage, divorce and (child) adoption.

भारतीय नागरिक कानून (Indian Civil Law) एक जटिल कानून है जिसमें प्रत्येक धर्म-विशेष के अपने कानून हैं। अधिकांश राज्यों में विवाह और तलाक के लिए पंजीकरण आवश्यक नहीं है। हिंदू, मुसलमान, ईसाई, सिक्ख व अन्य धर्मों के अपने कानून हैं। इसका अकेला अपवाद गोवा राज्य है जहां पुर्तगाली समान नागरिक संहिता प्रभावी है और सभी धर्मों के लिए विवाह, तलाक और (बच्चा) गोद लेने सम्बंधी एक जैसे कानून हैं।

PM Narendra Modi inaugurates Kartavya Path, unveils Netaji statue; says Kingsway or Rajpath, a symbol of slavery, has now been consigned to history